Shardiya Navratri 2022 : नवरात्र पूजन विधि, शुभ मुहूर्त जाने बरसेगी माता रानी की कृपा

Shardiya Navratri 2022 : माता के सभी भक्त गण Shardiya navratri 2022 Kab Hai इसका इंतजार कर रहे हैं | गणेश विसर्जन के बाद लोगों को और हमारे सभी भक्तों गणों को नवदुर्गा आने का और माता के विराजमान होने का इंतजार रहता है | ऐसे में अगर आप यह जानना चाहते हैं कि इस वर्ष शारदीय नवरात्रि किस दिन से शुरू हो रही है और नवरात्रि 2022 का शुभ मुहूर्त क्या है | इसके बारे में हम यहां पर चर्चा करेंगे इसके अलावा शारदीय नवरात्रि 2022 की पूजा विधि के बारे में भी जानकारी देंगे |

शारदीय नवरात्रि 2022 26 सितंबर से शुरू हो रही हैं और 26 सितंबर 2022 से लगातार 9 दिन तक माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाएगी इस वर्ष माता के भक्त गण पूरे हर्षोल्लास के साथ माता रानी के भक्त बनकर माता के श्री चरणों में और उनकी आराधना और भक्ति में लीन रहते हैं |

Shardiya Navratri 2022 Pooja

Shardiya Navratri 2022

हिंदू धर्म के अनुसार नवरात्रि के दिन माता दुर्गा जी के नौ रूप भक्त बड़ों के घर में आते हैं और अपने भक्तों को सुख संपत्ति वैभव का वरदान देते हैं ऐसे भक्तगण जो माता दुर्गा के व्रत को रखते हैं और 9 दिन माता की पूजा अर्चना करते हैं माता ऐसे अपने भक्तों पर कृपा बरसाए रखती हैं आइए हम शारदीय नवरात्रि 2022 के शुभ मुहूर्त के बारे में जानते हैं और इनके पूजा विधि के बारे में जानते हैं |

Shardiya navratri 2022 kab hai ( शारदीय नवरात्रि कब है )

26 September 2022 दिन सोमवार से मां भगवती शारदीय नवरात्रि का आरंभ हो रहा है भक्तगण मां जगदंबा का व्रत और नवदुर्गा की स्थापना अपने घरों में करेंगे |

Subh Muhurat Shardiya Navratri 2022?

हिंदू धर्म और हिंदू पंचांग के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को शारदीय नवरात्रि की शुरुआत होती है | इस वर्ष शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 26 सितंबर दिन सोमवार से की जाएगी | माता के सभी भक्तगण लगातार 9 दिन मां दुर्गा को अपने घर में स्थापित करते हैं और माता के लिए अखंड ज्योत जलाते हैं और सभी भक्तगण माता का विधि विधान से पूजन करते हैं |

Navratri 2022 Shubh Muhurat ( नवरात्रि शुभ मुहूर्त )

  • सोमवार के दिन अश्विन मास 26 सितंबर 2022
  • 26 सितंबर को प्रतिपदा तिथि से प्रारंभ शुभ मुहूर्त सुबह 3:00 वज कर 23 मिनट से शुरू होगा
  • समाप्ति प्रतिपदा तिथि की-27 सितंबर 2022 सुबह 3:00 बज कर 8 मिनट तक

घट स्थापना का मुहूर्त ( Ghatsthapna muhurat )

  • सोमवार के दिन अश्विनी मास मैं 26 सितंबर 2022 को घटस्थापना का मुहूर्त है |
  • सुबह 6:17 AM से लेकर 7:55 AM तक इसका समय है
  • अभिजीत मुहूर्त घट स्थापना का – 11:54 AM से लेकर शाम 12:54 PM तक

मां दुर्गा के नौ रूप

  • शैलपुत्री (
  • ब्रह्मचारिणी
  • चंद्रघंटा
  • कूष्माण्डेति
  • स्कंदमाता
  • कात्यायनी
  • कालरात्रि
  • महागौरी
  • सिद्धिदात्री
  • प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।
    तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम् ।।
    पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।
    सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम् ।।
    नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गा: प्रकीर्तिता:।
    उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना ।। [1]

नव दुर्गा पूजा सामग्री

समस्त भक्त गण जो माता के घटस्थापना करते हैं उन सभी के लिए और माता की पूजा के लिए निम्नलिखित पूजा सामग्री की आवश्यकता होती है |

  • हल्दी
  • कपूर
  • जनेऊ
  • आम के पत्ते
  • कुमकुम
  • पूजा के पान
  • सुपारी
  • नारियल
  • चौकी पाठ
  • गुड खोपरा
  • बादाम
  • मिठाई
  • धूपबत्ती
  • सिक्के
  • कुश का आसन
  • पांच प्रकार के फल
  • फूलों का हार
  • इत्यादि

disclaimer :- यहां पर दी गई जानकारी धार्मिक मान्यताओं और सोशल मीडिया पर दी गई जानकारी के अनुसार है hinditime.org इसकी किसी भी बात की पुष्टि नहीं करता है | और ऐसी किसी भी बात पर अमल करने से पहले किसी योग्य जानकार से संपर्क करें

महत्वपूर्ण लिंक – Shardiya Navratri Pooja 2022

🔥 Shardiya Navratri Pooja 2022Click Here
🔥 ✅ shardiya navratri 2022 date26 September 2022
🔥 ✅ shardiya navratri kab haiClick Here
🔥✅ Telegram Channel Click Here
🔥 ✅Telegram Channel Sarkari Yojana NewClick Here
🔥 ✅TwitterClick Here
🔥 ✅Website Click Here

Shardiya Navratri 2022 Kab Hai

FAQs Navratri 2022

Q1. shardiya navratri 2022 date?

26 सितंबर 2022

Q2. shardiya navratri kab hai?

26 सितंबर 2022 आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को शारदीय नवरात्रि की शुरुआत होती है

Q3. navratri Mantra Kya hai?

1 – सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।।
2- ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।

Q4. Maa durga ke no roop ke naam?

शैलपुत्री
ब्रह्मचारिणी
चंद्रघंटा
कूष्माण्डेति
स्कंदमाता
कात्यायनी
कालरात्रि
महागौरी
सिद्धिदात्री

Leave a Comment